खुद को IFS अधिकारी बता कर नरेंद्र मोदी की रैली में घुस गई महिला

खुद को IFS अधिकारी बता कर नरेंद्र मोदी की रैली में घुस गई महिला


जिस प्रकार अक्षय कुमार स्पेशल 26 में फर्जी सीबीआई ऑफिसर बने थे तथा फर्जी छापेमारी करते थे और लोगों से पैसे एट कर चुपचाप निकल लेते थे उनके इस प्रकार के फर्जी काम में उनकी पूरी एक टीम थी
अक्षय कुमार सीबीआई ऑफिसर इसलिए बने थे क्योंकि वह सीबीआई में जाना चाहते थे परंतु परीक्षा पास नहीं कर पाए इसीलिए वह फर्जी सीबीआई ऑफिसर बने थे
ऐसा ही एक मामला रियल लाइफ में भी सामने आया है
नोएडा में एक फर्जी आईएएस ऑफिसर जोया खान को गिरफ्तार किया गया है गिरफ्तार करने के उपरांत उसने बताया कि उसने 2007 में एग्जाम दिया था जिसे वह पास नहीं कर पाई
इस पूरे फर्जीवाड़े में उसके पति की भी बराबर की भागीदारी है
इसमें हैरान होने वाली बात यह है कि यह पिछले 2 साल से फर्जी अधिकारी बनकर रह रही थी तथा सरकारी आवासों का भी फायदा उठा रही थी और बकायदा पुलिस सुरक्षा में भी रह रही थी
इसके साथ ही हाल ही में हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की मेरठ वाली रैली में भी पुलिस अधिकारियों के साथ पहुंची थी
जोया को मेरठ व गाजियाबाद की पुलिस सैल्यूट करती थी जोया खान के घर पर छापामारी के दौरान पुलिस को लैपटॉप बरामद हुआ है जिसमें जोया खान की अफगानिस्तान के लोगों के साथ बातचीत तथा उनसे संपर्क होने की पुष्टि हुई है
इसकी पहचान तब हुई जब इसने नोएडा के एसएसपी कृष्णा को हड़का दिया तो उन्हें जोया पर कुछ संदेह हुआ इसके पश्चात उन्होंने जांच शुरू की तथा साथ ही जोया के घर की तलाशी भी ली तलाशी के दौरान सारा मामला सामने आ गया जिससे स्पष्ट पता चला कि यह फर्जी ऑफिसर बनी हुई थी

Post a Comment

0 Comments