About Me

दोस्तों लव मैरिज करना गलत नहीं है

दोस्तों लव मैरिज करना गलत नहीं है




आज पूनम लव मैरिज करके अपने पापा के पास आई और अपने पापा से कहने लगी पापा मैंने अपनी पसंद के लड़के से शादी कर ली है उसके पापा  बहुत गुस्से में थे पर वह बहुत सुलझे हुए शख्स ने उसने बस इतनी ही बात अपनी बेटी से कहीं तुम मेरे घर से निकल जाओ बेटी ने कहा अभी इनके पास कोई काम नहीं है हमें रहने दीजिए हम बाद में चले जाएंगे पर उसके पापा ने एक नहीं सुनी और उससे घर से बाहर कर दिया कुछ साल बीत गई अब पूनम के पापा नहीं रहे और दुर्भाग्य वंश जिस लड़के से पूनम ने शादी की वह भी उसे धोखा देकर भाग गया पूनम की एक लड़की एक लड़का था पूनम खुद का एक रेस्टोरेंट चला रही थी जिससे उसका जीवन का यापन हो रहा था पूनम को जब यह खबर हुई उसके पापा नहीं रहे तो उसने मन में सोचा अच्छा हुआ मुझे घर से निकाल दिया था दर दर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ दिया था मेरे पति के छोड़ जाने के बाद भी मुझे घर नहीं बुलाया मैं तो नहीं जाऊंगी उनकी अंतिम यात्रा में पर उसके ताऊजी ने कहा पूनम हो जाओ जाने वाला शख्स तो चला गया अब उनसे दुश्मनी कैसी पूनम ने पहले हां ना किया फिर सोचा चलो हो आती हूं देखूं तो जिन्होंने मुझे ठुकराया वह मरने के बाद कैसा सुकून पाते हैं पूनम जब अपने पापा के घर आई तो सब उनकी अंतिम यात्रा की तैयारी कर रहे थे पर पूनम को उनके मरने का कोई दुख नहीं था वह तो बस अपने ताऊ जी के कहने पर आई थी अब पूनम के पापा के अंतिम यात्रा शुरू हुई सब रो रहे थे पर पूनम दूर खड़ी हुई थी जैसे तैसे सब कार्यक्रम निपट गए आज पूनम के पापा की तेज हुई थी उसके ताऊजी आए और पूनम के हाथों में खत देते हुए उन्होंने पूनम से कहां यह तुम्हारे पापा ने तुम्हें दिया है हो सके तो इसे एक बार जरूर पढ़ लेना रात हो चुकी थी सारे मेहमान जा चुक थे पूनम ने वह खत निकाला और पढ़ने लगी उसमें सबसे पहले लिखा था मेरी प्यारी गुड़िया मुझे मालूम है तुम मुझसे नाराज हो पर अपने पापा को माफ कर देना मैं जानता हूं तुम्हें मैंने घर से निकाला था तुम्हारे पास रहने की जगह नहीं थी तुम दर-दर की ठोकरें खा रही थी पर मैं भी उदास था तुम्हें कैसे बताऊं याद है तुम्हें जब तुम्हें 5 साल की थी तब तुम्हारी मां हमें छोड़ कर चली गई थी तब तुम कितना रोती थी डरती थी मेरे बिना सोती नहीं थी रातों को उठ कर रोती थी तब भी मैं भी सारी रात तुम्हारे साथ जता था तुम जब स्कूल जाने से डरती थी तब मैं भी सारा वक्त तुम्हारे स्कूल की खिड़की पर खड़ा होता था और जैसे ही तुम स्कूल से बाहर आती मैं तुम्हें सीने से लगा लेता था वह कच्चा पक्का खाना याद है जो तुम्हें पसंद नहीं आता था मैं उसे फेंक कर फिर से तुम्हारे लिए नया खाना बनाता था क्या तुम में भूखी नहीं रहो याद है तुम्हें जब तुम्हें बुखार आया था तो मैं सारा दिन तुम्हारे पास बैठा रहता था अंदर ही अंदर होता था पर तुम्हें हंसाता था

दोस्तों लव मैरिज करना गलत नहीं है लेकिन उस लव मैरिज में आप सभी परिवार को माता पिता भाई बहन ताऊ जी सभी को शामिल कर लें तो अच्छा होता है

अगर यह कहानी आपके दिल को छुआ हो तो जरूर इसे शेयर करें

Post a Comment

0 Comments